मैंने अपना वजूद तलाशा है........

मैंने अपना वजूद तलाशा है ,
रेत पर लिखे उन नामों में,
जो एक लहर से मिट जाते हैं,
सागर की अतल गहराइयों में,
जहां सूरज भी परास्त हो जाता है,
आसमान के उन तारों में,
जो किसी की ख्वाहिश को पूरा करने टूट जाते हैं,
उस बूढे बरगद के पत्तों में,
जो हवा की ताकत से मुकाबला करते हैं,
मैंने अपना वजूद तलाशा है,
शाम की उस धूमिल रोशनी में,
जिसमे आसमां भी रंग बदल देता है,
उन रातों में,
जिनमे मैं जागता रहता हूँ,
उन चेहरों में ,
जो वक्त के साथ बदल जाते हैं,
उन ख्वाबों में,
जिन्हें मैं जीना चाहता हूँ,
शायद मुझे कभी मिल जाए,
जो मेरा वजूद बता जाए,
तब तक तलाशता रहूँगा उसे,
मेरा वजूद बता सके जो मुझे.....
मैंने अपना वजूद तलाशा है........




अंजित

Comments

  1. Excellent weblog here! Also your web site loads up very fast!
    What web host are you the use of? Can I am getting your associate
    hyperlink on your host? I want my site loaded up as fast as yours lol

    Also visit my website portable induction cooktop

    ReplyDelete
  2. Have you ever considered writing an ebook or guest authoring on other websites?
    I have a blog based upon on the same ideas you discuss
    and would love to have you share some stories/information.
    I know my subscribers would enjoy your work. If you
    are even remotely interested, feel free to shoot me an email.


    Here is my blog: side by side under counter fridge freezer

    ReplyDelete

Post a Comment

Popular posts from this blog

Book Review: What Young India Wants (Chetan Bhagat))

Are We Connected: Diary pages #3: Preeti Singh

Book Review: A Maverick Heart: Between Love And Life (Ravindra Shukla)