Distance..

Wrote it sometime ago; guess I haven't posted it here earlier, hence sharing.


जब कोई अपना दूर चला जाता है,
तब ही क्यूँ वो दिल के करीब आता है,
जब हम बात करना चाहते हैं उनसे,
तब जाने क्यूँ एक डर सताता है,
डूबे रहते हैं बस उनकी ही यादों में,
पता नहीं कि वो भी याद करते हैं या नहीं,
ख्वाहिश होती है कि देख ले सामने उन्हें,
पर क्यूँ ये दूरियाँ आ जाती हैं हर बार,
रहना चाहते हैं ज़िंदगी भर साथ,
पर क्यूँ ये वक्त फिसल जाता है हर बार,
क्यूँ देखना पड़ता है हर बार मुझे ही,
बिखरते अपनी ज़िंदगी को....बस यूँ ही...



AnSh..

Comments

  1. So hoա cann you prove you can provide tɦat valսe to the
    Internet audience. If you are lοoking foor online marketers, tҺen this forum is the perfect ploace wheгe you can meet up ѡith brilliant minds whom you ccan employ fоr your marketing neеds.
    Internet marketing іs perhɑps one of the most popular vehicles սsed byy businesses,
    Ьig and small, tto boost earnings.

    my site: online marketing jobs from home

    ReplyDelete

Post a Comment

Popular posts from this blog

Book Review: What Young India Wants (Chetan Bhagat))

Are We Connected: Diary pages #3: Preeti Singh

Book Review: A Maverick Heart: Between Love And Life (Ravindra Shukla)